ब्लॉगर डैशबोर्ड “एस ई ओ” (SEO) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कैसे करें?

अपने ब्लॉग को गूगल सर्च (Google Search) में लाएँ, Search Engine Optimization, ब्लॉगर डैशबोर्ड (blogger. com) पर बनाई वेबसाइट को हम गूगल या किसी भी अन्य सर्च इंजन (Search Engine) के मुताबिक कैसे करें? कौन-सी सेटिंग करें जिससे हमारे ब्लॉगर पर बनाए Blog का सही एस ई ओ (SEO) हो सके. चलिए जानते हैं ब्लॉगर डैशबोर्ड का SEO सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करें, जानते हैं स्टेप बाय स्टेप क्रमबद्ध तरीके से आप भी अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड का एस ई ओ (SEO) कर सकती हैं तो चलिए स्टार्ट करते हैं।

blogger dashbord seo
blogger dashbord seo

ब्लॉगर डेशबोर्ड परिचय (blogger dashboard introduction)

सबसे पहले हम आपको ब्लॉगर डैशबोर्ड (blogger dashboard) के वारे में बताने की कोशिश कर रहे हैं, जैसे ही आप अपने ईमेल के माध्यम से blogger. com पर आप लोगन होंगे और SubDomain में से अपना एक वेबसाइट का एड्रेस चुना जैसे ही आप डैशबोर्ड पर आएंगे।तो आपको कुछ फीचर देखने को मिलेंगे। जिन्हें हम क्रमबद्ध तरीके से जानते हैं उनका विवरण सहित:

डैशबोर्ड पर अवेलेबल फीचर (Dashboard Feature) :- “पोस्ट” “आंकड़े” “टिप्पणी” “आय” “पेज” “लेआउट” “थीम” “सेटिंग” “रीडिंग लिस्ट” और ब्लॉग देखें

blogger dashbord seo

Blogger All Feature

1-पोस्ट फीचर (Post) :-तो सबसे पहले आपको पोस्ट लिखने के लिए फीचर मिलेगा, जिस पर आप Cick करके पोस्ट लिख सकते हो।
2-आंकड़े (statistics) :-इसके बाद आंकड़े यानी आप यह उस पर क्लिक करके यह देख सकते हो कि आपके ब्लॉग पोस्ट को कितने लोगों ने देखा है। कौन-सा पोस्ट आपका अधिक रैंक हो रहा है। कौन-सा कम,
3-टिप्पणी (Comment) :-यदि आपके ब्लॉग पोस्ट पर कोई टिप्पणी करता है, कमेंट करता है, तो उस कमेंट के लिए आपको तीसरा फीचर मिलेगा।
4-आय (Income) :-इसके बाद चौथा फीचर होगा आपका अर्निंग, Income यह फीचर आपका कब लागू होगा? जब आप कम से कम 15-20 अपने ब्लॉगर साइट पर कम से कम 15 से 20 आर्टिकल लिखें और आपका ब्लॉग मिनिमम 3 से 6 महीने पुराना होना चाहिए, इसके बाद आप यहाँ से गूगल ऐडसेंस के लिए कनेक्ट कर सकते हैं। उससे पहले भी आप कनेक्ट कर सकते हैं अपने कंटेंट के हिसाब से।
5-पेज (Pages) :-उसके बाद आता है पेज जो हमारी साइट के लिए बहुत जरूरी होता है। पेज पर आप अपनी वेबसाइट के वारे में बतायेगे। अपने Blog Site लिए अबाउट्स पेज, कांटेक्ट पेज और प्राइवेसी पॉलिसी, इसके अलावा भी आप और पेज क्रेडिट कर सकते हैं। यह पेज आप अपनी वेबसाइट के (Header) ऊपर जोड़ सकते हैं।
6-लेआउट (layout) :-इसके बाद आता है दोस्तों लेआउट पर क्लिक करेंगे तो आपको अपनी वेबसाइट के किस प्रकार का लेआउट सेट अप करना है, किस तरह से आप पसंद करेंगे और यूजर को कौन-सा लेआउट अधिक पसंद हो सकता है। वह अपने हिसाब से कर सकते हैं।
7-थीम (Theme) :-इसके बाद नेक्स्ट आता है दोस्तों थीम, Theme इस पर क्लिक करके आप लोग डैशबोर्ड में उपलब्ध थीम चुन सकते हैं। इसके अलावा आप इंटरनेट पर अवेलेबल फ्री ब्लॉगर थीम का भी चयन कर सकते हैं और अपनी साइड में Theme अपलोड कर सकते हैं।
8-सेटिंग (Settings) :-इसके बाद सेटिंग, यहाँ से आप अपनी सेटिंग कर सकते हैं अथवा आप अपने blogger. com सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कर सकते हैं तो हम सेटिंग पर क्लिक करके SEO की शुरुआत करते हैं।

ब्लॉगर एस ई ओ करें?

अपने ब्लॉगर की सेटिंग कैसे करें? चली दोस्तों अब हम अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड की सेटिंग की शुरुआत करते हैं। सबसे पहले आपको सेटिंग पर क्लिक करना है।

A-शीर्षक (Topic) :-जैसे ही आप सेटिंग पर क्लिक करेंगे यहाँ पर आपके लिए है शीर्षक (Topic) चुनने का पहला ऑप्शन आएगा। जहाँ से आप अपनी साइट का नाम डाल सकते हैं। इस पर आप अपने डोमेन के हिसाब से मिनिमम 100 वर्ड में आप अपना शीर्षक (Topic) डाल सकते हैं।

B-डिस्कशन (discussion) :-इसके बाद दोस्तों आता है डिस्कशन जिसको आप अपने ब्लॉग का डिस्कशन देंगे कि आपने यह ब्लॉग किस से रिलेटेड बनाया है, क्या आप इसमें कंटेंट डालने वाले हैं? क्या लोगों को बताने वाले हैं? आदि तमाम प्रकार की जानकारी आप मिनिमम 500 वर्ड में इसको इस्तेमाल कर सकते हैं और अपने Blog के बारे में मुख्य रूप से बता सकते हैं।

C- Blog की भाषा (

C- Blog की भाषा (Language):– इसके बाद नेक्स्ट फीचर आता है Blog की भाषा, आप अपने ब्लॉग को किस Language से सेट करना चाहते हैं? कौन-सी भाषा यूज करना चाहते हैं? आप हिन्दी चाहते हैं या इंग्लिश या तमिल कोई भी आप भाषा जो ब्लॉगर डैशबोर्ड पर अवेलेबल है। उसे अपनी भाषा को चुन सकते हैं।

इसके बाद नेक्स्ट फीचर आता है Blog की भाषा, आप अपने ब्लॉग को किस Language से सेट करना चाहते हैं? कौन-सी भाषा यूज करना चाहते हैं? आप हिन्दी चाहते हैं या इंग्लिश या तमिल कोई भी आप भाषा जो ब्लॉगर डैशबोर्ड पर अवेलेबल है। उसे अपनी भाषा को चुन सकते हैं।

Blogger एस ई ओ करें?

D-वयस्क सामग्री (adult content) :-इसके बाद फीचर आता है वयस्क सामग्री दोस्तों इस फीचर में आपको ब्लॉग पढ़ने वालों के लिए कोई चेतावनी दिखाना चाहते हैं तो आप उसे इनेबल कर सकते हैं, साथ में आपको उम्र की पुष्टि करना जरूरी है कि आप 18 से ऊपर हैं इस प्रकार से आप इनेबल कर सकते हैं।

E-गूगल विश्लेषिकी प्रॉपर्टी आईडी (Google Analytics) :-नेक्स्ट फीचर आता है दोस्तों Google Analytics इसमें आपको प्रॉपर्टी आईडी यानी गूगल एनालाइट्स पर आपको अकाउंट बनाना है। वह अकाउंट कैसे बनाना है इसके बारे में मैं अगली पोस्ट में बताऊंगा।

उस पर अपना अकाउंट सेट अप करें, अकाउंट सेट अप करने के बाद आप वहाँ से जो आईडी होगी उस आईडी को आपको यहाँ पर डालना है। इससे क्या होगा कि जो भी विजिटर आपके वेबसाइट पर आएगा उसकी संख्या वर्तमान में क्या traffic है कितने लोगों ने देखा है।ट्रैफिक एनालिसिस कर सकते हैं। आदि तमाम प्रकार की जानकारी आप अपने Google Analytics डैशबोर्ड में देख सकते हैं।

Search Engine Optimization Blogger सेटिंग

F-फ़ेविकोन (favicon) :-नेक्स्ट फीचर आपका फ़ेविकोन का है इसमें दोस्तों आप अपनी साइट का आइकन (IMAGE) बना सकते हैं। जो 512*512 की एक इमेज बनाइए और उस इमेज को आप यहाँ पर अपलोड कर सकते हैं। इससे जो भी आपके वेबसाइट एड्रेस के ऊपर आइकन दिखाई देगा, अपनी साइड के हिसाब से favicon दिखना चाहिए ताकि लोग आपकी साइट को पहचान सके.

G-निजता (privacy) :-इसके बाद नेक्स्ट में आता है निजता, आप सर्च इंजन पर दिखाई देंगे, क्या आप अपने ब्लॉग को सर्च इंजन पर दिखाई देना चाहते हैं? इसको आप इनेबल कर सकते हैं। यदि आप इसको इनेबल नहीं करेंगे तो आपके पोस्ट गूगल पर या किसी भी सर्च इंजन पर दिखाई नहीं देंगे।

सर्च इंजन में जोड़ने के लिए साइट को क्या-क्या प्रोसेस करने होती है यह मैं अगली पोस्ट में बताने की पूरी कोशिश करूंगा। गूगल पर आपको अपनी वेबसाइट सेटअप कैसे करना है इसके बारे में भी आप ही जानेंगे।

ब्लॉगर SEO करें

H-प्रकाशन (publication) :-नेक्स्ट फीचर आता है दोस्तों publication ब्लॉग का पता, जिसमें आपने जो SubDomain चुना है उसको आप देख सकते हैं। यदि यहाँ से आप में कस्टम डोमेन चुनना चाहते हैं जो आप खरीदा हुआ, डोमेन तो वह भी आप यहाँ से ऐड कर सकते हैं। इसको ऐड करने के लिए आपको जो भी कस्टम डोमेन है उसको यहाँ पर डालना होगा। इसके बाद यहाँ से जो भी कोड प्राप्त होगा वह आपको आपने खरीदे हुए डोमेन के डैशबोर्ड में जाकर वहाँ पर DNS में आपको रिकॉर्ड डालना होगा। इसके बाद आपका कस्टम डोमेन ऐड हो जाएगा।

I-एचटीटीपीएस (https) :-इसके बाद आता है HTTPS दोस्तों आप अपनी साइट को सिक्योर बनाने के लिए एचटीटीपीएस का इस्तेमाल यहाँ से करेंगे। यहाँ आपको OLD सिर्फ मैं पहले क्या होता था कि कुछ रिकॉर्ड अपलोड करने होते थे। लेकिन अब आपको यहाँ पर सिर्फ है केवल से इनेबल करना है।

ऑल ब्लॉगर डैशबोर्ड SEO

J-अनुमतियाँ (permissions) :-नेक्स्ट फीचर आता है दोस्तों Blog के एडमिन और लेखक यहाँ पर आप अपना नाम डाल सकते हैं। जो भी आप नाम डालेंगे वह आपके ब्लॉग पोस्ट पर एडिटर के रूप में प्रदर्शित होगा। यदि आप किसी अन्य पोस्ट लिखने वाले के लिए आप अनुमति देना चाहते हैं तो वह आप यहाँ पर उनका ईमेल वगैरह सेव कर सकते हैं और यहाँ से आप लेखक को भेजे गए न्योते की अनुमति बाकी जान सकते हैं।

K-पोस्ट (Post) :-इसके बाद खास फीचर दोस्तों पोस्ट, Post पर मुख्य पेज पर आप कितने पोस्ट दिखाई देना चाहते हैं, इसके बारे में आपको यह बताना है। आपको इतना सेट अप करना है कि अपनी वेबसाइट की लोडिंग के हिसाब से आप मिनिमम साथ पोस्ट जो कस्टम रहती हैं उसे ही चयन करें। आप बड़ा और घटा भी सकते हैं।

Blogger SEO Settings

L-टिप्पणियाँ (Comments) :-दोस्तों इसके बाद आती हैं टिप्पणियाँ, Comments दिखाने की जगह कौन टिप्पणी कर सकता है? कौन नहीं कर सकता है? गूगल खाते वाला Comments कर सकता है, टिप्पणी पर पूरा नियंत्रण कर सकते हैं। कोई भी यदि कमेंट करता है तो उस पर आप नियंत्रण कर सकते हैं और टिप्पणी आपके कितने दिन में रिमूव हो जाएंगे तमाम प्रकार की सेटिंग टिप्पणी के माध्यम से कर सकते हैं। साथ में यदि आप टिप्पणी करते समय कैप्चर डालने की अनुमति देना चाहते हैं तो उसे भी आप इनेबल कर सकते हैं। यदि टिप्पणी करते समय किसी को कोई सुझाव देना चाहते हैं तो वह भी आप लिख सकते हैं।

M-ईमेल (E-mail) नेक्स्ट फीचर आता है दोस्तों ईमेल का, ईमेल का इस्तेमाल करके पोस्ट करें अनुमति दें, या नहीं दें, टिप्पणी की अधिसूचना अथवा ईमेल पर सूचना इसमें आप अपना ईमेल डाल सकते हैं। टिप्पणी की अधिसूचना का ईमेल पाने के लिए आप किसी को इनवाइट कर सकते हैं। पोस्ट की सूचना पाने के लिए आप ज्यादा से ज्यादा लोगों को यहाँ से इनवाइट कर सकते हैं। तो इस प्रकार से यह ईमेल (E-mail) की सेटिंग कर सकते हैं।

N-फ़ॉर्मैट (format) :-नेक्स्ट फीचर है दोस्तों फॉर्मेट इसमें आप टाइम सेट कर सकते हैं। यदि आप का टाइम सही नहीं होगा तो गूगल में SITMAP करते समय प्रॉब्लम हो सकती है। इसलिए आप यह टाइम सेट करें “(GMT+05: 30) भारतीय मानक समय–कोलकाता” इससे आपका टाइम से रिलेटेड सेटिंग पूरी हो जाएग।

Settings for blogger

P-मेटा टैग (meta tag) :-मेटा टैग यह आपकी साइट को सर्च करने में मदद करेगी। आपको अपनी साइट के बारे में मिनिमम 150 वर्ड में लिखना है। जिससे कि आपकी ब्लॉग साइट गूगल में सर्च में आए आप ऐसे कीवर्ड को वेबसाइट से रिलेटेड फाइंड कर सकती हैं और वह कीवर्ड आप मिनिमम 150 वर्ड में डाल सकते हैं।

Q-गड़बड़ियाँ और रीडायरेक्ट (Errors and redirects) :-गड़बड़ी या रीडायरेक्ट, दोस्तों इसकी हमें तब जरूरत पड़ती है जब यदि हमने कोई पोस्ट लिखी और उसको हमने गूगल में इंडेक्स कर दी, कुछ दिन बाद यदि हमने उस पोस्ट को डिलीट कर दिया तो जो हमारा इंडेक्स यूआरएल है वह एयरो बताएगा, 404 erro बन जाएगा। तो उसको यदि हम किसी अन्य लिंक पर रीडायरेक्ट करना चाहते हैं तो यहाँ से आप उसे जोड़ सकते हैं और आप अन्य यूआरएल पर भी पूर्व में डाले गए कंटेंट URL को रीडायरेक्ट यहाँ से कर सकते हैं।

A-Z Boggers Settings

R-क्रॉलर और इंडेक्स की सेटिंग (Crawler and index settings) :-दोस्तों अब आता है मुख्य सर्च इंजन से जुड़ी हुई जानकारी या सेटिंग जिसको हमें करना बहुत जरूरी होता है। इसमें आपको सबसे पहले पसंद के मुताबिक robots. txt चालू करना है। यदि आप कस्टम रोबोट टैक्सी (robots. txt) बनाना चाहते हैं तो वह भी आप यहाँ से कस्टम बना सकते हैं और इसके बाद में आप कस्टम रोबोट एडिटेड इसको भी आप इनेबल करें। आप यहाँ से होम पेज के लिए टैग इनेबल कर सकते हैं और साथ में होम पेज के लिए टैग डाल सकते हैं पेज के लिए टैग दोनों के लिए आप यहाँ से इनेबल कर सकते हैं। इससे हमारी साइट रैंक होगी।

S-गूगल सर्च कंसोल (Google Search Console) :-यहाँ से दोस्तों आप क्लिक करेंगे जैसे ही वह आपको गूगल सर्च कंसोल के डैशबोर्ड में ले जाएगा। जहाँ पर आप अपनी वेबसाइट को ऐड कर सकते हैं और साथ में आप यहाँ पर अपना SITEMAP डाल सकते हैं। तो जब हमारी साइट रेडी हो जाए कस्टमाइज के बाद आप जैसे गूगल में समेट कर सकते हैं।

Blogger All SEO

T-कमाई करना (to earn) :-दोस्तों यह वह फीचर हैं जहाँ से हम अपनी साइट पर इनकम स्टार्ट, यहाँ पर आपको गूगल ऐडसेंस पर जब हमारी वेबसाइट को मंजूरी मिल जाएगी तब हमारी साइट के लिए गूगल ऐडसेंस की तरफ से एक कोड दिया जाता है जिसे ads. txt कहते हैं। उसे एक ads. txt को हमें अपनी साइड में जोड़ना पड़ता है। जो आप यहाँ पर ads. txt इनेबल करके जोड़ सकते हैं। गूगल ऐडसेंस का अप्रूवल मिलने के बाद आप इसे इनेबल कर सकते हैं और ads. txt जोड़ सकते हैं।

U-ब्लॉग प्रबंधित करें (manage blog) :-ब्लॉग को प्रबंधित करना, आप यहाँ से अपनी सामग्री को इंपोर्ट कर सकते हैं। साथ में यदि आप का ब्लॉग बनकर तैयार है तो इसे यहाँ से आप अपना बैकअप भी ले सकते हैं। यदि हम किसी प्रकार की सेटिंग को डिस्टर्ब, या Theems में कोई कोडिंग से सम्बंधित छेड़खानी करते हैं उससे पहले आप अपनी वेबसाइट का यहाँ से बैकअप ले सकते हैं और अपना ब्लॉग यहाँ से डिलीट भी कर सकते हैं। यदि आप परमानेंटली डिलीट करना चाहते हैं तो डिलीट कर सकते हैं।

V-साइट फ़ीड (site feed) :-यहाँ से आप अपना साइड फीड तैयार कर सकते हैं और यदि आप पूरी वेबसाइट का site feed भी बनाना चाहते हैं तो बना सकते हैं। नहीं तो आप अपने छोटे यूआरएल के हिसाब से site feed तैयार कर सकते हैं। फिलहाल में इसके बहुत कम जरूरत पड़ती है।

पोस्ट निष्कर्ष

दोस्तों आपने ऊपर दिए कंटेंट में ब्लॉगर डैशबोर्ड के SEO के बारे में, उसकी पूरी सेटिंग को समझा। आशा है आप को ऊपर दी गई जानकारी जरूर अच्छी लगी होगी और आप भी एक ब्लॉग बना करके अपना काम स्टार्ट कर सकते हैं। दोस्तों और Blog / Blogger से रिलेटेड पोस्ट पढ़ने के लिए आप हमारे सब्सक्राइब बटन को क्लिक करें, धन्यवाद।

Read this post;-

2 thoughts on “ब्लॉगर डैशबोर्ड “एस ई ओ” (SEO) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कैसे करें?”

Leave a Comment